भारत सरकार द्वारा लागू की गयी नयी टैक्स प्रणाली जीएसटी के दो साल पुरे होने पर जीएसटी दिवस का आयोजन किया गया।दी इंस्टिट्यूट ऑफ़ कंपनी सेक्रेटरी ऑफ़ इंडिया के रांची चैप्टर द्वारा प्रेस क्लब में आयोजित सेमिनार में विगत दो वर्षो के अनुभव एवं कार्यो पर चर्चा की गयी

भारत सरकार द्वारा लागू की गयी नयी टैक्स प्रणाली जीएसटी के दो साल पुरे होने पर जीएसटी दिवस का आयोजन किया गया।दी इंस्टिट्यूट ऑफ़ कंपनी सेक्रेटरी ऑफ़ इंडिया के रांची चैप्टर द्वारा प्रेस क्लब में आयोजित सेमिनार में विगत दो वर्षो के अनुभव एवं कार्यो पर चर्चा की गयी।साथ ही जीएसटी में समय समय पर हुए संसोधन पर भी विस्तार से चर्चा हुयी।कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में झारखण्ड सरकार के नगर विकास एवं परिवहन मंत्री सह जीएसटी कौंसिल के सदस्य सीपी सिंह तथा कोलकत्ता से आये मुख्या वक्ता सीएस,सीए ,सीएमऐ संजय मुंद्रा उपस्थित थे।मंत्री श्री सिंह ने अपने सम्बोधन में कहा की सरकार के नयी कर व्यवस्था से व्यापारियों को टैक्स फाइल में काफी सुविधा पहुंची है।साथ ही भारत सरकार को भी राजस्व वसूली में लाभ पंहुचा है।उपभोक्ता भी टैक्स की पेचीदगी से बचे है।उन्होंने कहा की जीएसटी फाइलिंग और इसके अनुपालन को लेकर सीएस यानि कंपनी सेक्रेटरी काफी सजग है।वही मुख्य वक्ता संजय मुंद्रा ने कहा की जीएसटी प्रणाली को और सरल बनाने की जरुरत है साथ ही उन्होंने कहा की जीएसटी से सम्बंधित कार्य एक कंपनी सचिव बहुत ही प्रभावी रूप से संपादन कर सकते है उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया की जीएसटी कौंसिल को कंपनी सचिव की सेवाओं को भी प्रमुखता से लेना चाहिए ।अतिथि के तौर पर उपस्थित झारखण्ड चैम्बर ऑफ़ कोम्मेर्से के अध्यक्ष दीपक कुमार मारु ने कहा की वाणिज्य कर फाइलिंग में प्रोफेशनल का बड़ा योगदान है।जीएसटी कर प्रणाली में प्राइवेट कंपनी के जीएसटी अनुपालन को और आसान बनाया जाये।
इस मौके पर कंपनी सेक्रेटरी सीएस राजीव कुमार ने कहा की जीएसटी के पूर्व झारखण्ड वैट सिस्टम में सीएस के पास ऑडिट का पूर्ण अधिकार मिला हुआ था।लेकिन इस नयी टैक्स व्यवस्था में सीएस को इस अधिकार से वंचित रखा रखा गया है।सरकार को योग्यता आधारित दृश्टिकोण रखना चाहिए।इस मौके पर कंपनी सेक्रेटरी रांची चैप्टर के चैयरमेन सीएस रोहित प्रकाश प्रीत ने कहा की देश में 59 हजार योग्य सीएस है तथा साढ़े तीन लाख ज्यादा छात्र छात्राये इस कोर्स को कर रहे है।ऐसे में सीएस प्रोफेशन से जुड़े एक बड़े समूह को जीएसटी के ऑडिट के पावर से दूर रखना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है।सरकार सीएस को उनका जीएसटी ऑडिट पावर पुनः सम्मान पूर्वक वापस देना चाहिए ।जीएसटी दिवस के मौके पर आयोजित कार्यक्रम में उपस्थित सम्मानित अतिथि एवं आगंतुकों का स्वागत चैप्टर की वौइस् चेयरपर्सन मिस नेहा पांडेय ने किया।उन्होंने कहा की सीएस का योगदान जीएसटी के छेत्र में बहोत ही महत्वपूर्ण है इस नए एक्ट में संसोधन की जरुरत है, जिससे की छोटे व्यापारिओं को भी लाभ मिले । इस जीएसटी सेमिनार का सफल संचालन सुश्री जूही कुमारी के द्वारा किया गया।इस दौरान चैप्टर के सेक्रेटरी आदित्य खंडेलवाल,ट्रेजरर अमन पोद्दार,वरिष्ठ सदस्य अरुण कुमार सिन्हा,विनोद बक्शी,संजीव दीक्षित,कुमार गौरव,सनत मिश्रा, सतीस कुमार, राजीव कुमार, अमित कुमार , निमेष आनंद, रवि भामा, अमित चक्रवर्ती, अभय कंठ सहित अन्य उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *