#पाकिस्तान का नाम लिए बगैर आतंकवाद के खिलाफ #मोदी ने रच डाला चक्र व्यूह, #चीन भी आया साथ

जी-20 शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कूटनीति रंग ला रही है। हालांकि उन्होंने कहीं भी पाकिस्तान का नाम नहीं लिया लेकिन व्यूह रचना ऐसी रची है जिसमें पाकिस्तान को सबक मिलना तय है। जी-20 शिखर सम्मेलन की खास बात यह भी है कि इसमें आईएमएफ, यूरोपियन यूनियन और वर्ल्ड बैंक जैसी वित्तीय संस्थाओं के टॉप ब्रासेस भी शामिल हैं। मोदीने एक तरफ जहां उन्होंने ट्रेड टैरिफ पर ट्रंप को साधने के लिए चीन रूस के साथ ही जापान का सहयोग हासिल किया वहीं आतंकवाद पर जापान, अमेरिका रूस के साथ ही चीन को भी भारत के रुख का समर्थन करने के लिए मजबूर कर दिया।

हालांकि जी-20 शिखर सम्मेलन का घोषणा पत्र शनिवार को आयेगा, लेकिन शुक्रवार शाम तक घोषणापत्र का मजमून तैयार हो चुका है। इसके अलावा प्रधानमंत्री मोदी ने आतंकवाद के अलावा ने जलवायु परिवर्तन और परस्पर आर्थिक और व्यापारिक संबंधों को और अधिक मजबूत करने की ठोस सुझाव दिये जिस पर सभी सदस्य देशों की सहमति रही।इसके अतिरिक्त भारतीय प्रधान मंत्री मोदी ने ओसाका में ही आरआईसी (रूस-भारत-चीन) की अनौपचारिक बैठक के लिये दोनों नेताओं की मेजबानी की। तीनों देशों ने रूस, भारत और चीन के विदेश मंत्रियों की 16 वीं बैठक की संयुक्त विज्ञप्ति में सभी रूपों में आतंकवाद की कड़ी निंदा की। प्रधानमंत्री मोदी ने अपनी शुरूआती टिप्पणी में यहां कहा कि ओसाका में त्रिपक्षीय बैठक बड़े वैश्विक मुद्दों पर चर्चा और समन्वय का उपयोगी माध्यम है। लंबे समय के बाद तीनों नेता पिछले साल अर्जेंटीना में शिखर बैठक में मिले थे।पीएम मोदी ने कहा,‘दुनिया की अग्रणी अर्थव्यवस्था के तौर पर विश्व की आर्थिक, राजनीतिक और सुरक्षा स्थिति के लिये हमारे बीच विचारों का आदान-प्रदान महत्वपूर्ण है। हमारी आज हुई त्रिपक्षीय बैठक बड़े वैश्विक मुद्दों पर चर्चा और समन्वय का उपयोगी माध्यम है। उन्होंने आगे कहा, ‘‘चीन में फरवरी में हुई हमारे विदेश मंत्रियों की बैठक के दौरान कई मुद्दों पर चर्चा हुई थी। इसमें आरआईसी के तहत आतंकवाद निरोध, हिंसा एवं खतरे के अंतरराष्ट्रीय बिंदुओं, बहुपक्षवाद में सुधार, जलवायु परिवर्तन जैसे मुद्दों पर सहयोग शामिल है।’विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने अपने ट्वीट में कहा, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रूसी राष्ट्रपति पुतिन और चीनी राष्ट्रपति शी की ओसाका में ‘आरआईसी’ की अनौपचारिक बैठक की मेजबानी की। आतंकवाद निरोध, हिंसा एवं खतरे के अंतरराष्ट्रीय बिंदुओं के मुद्दों, बहुपक्षवाद में सुधार और जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर चर्चा की।’

साभार News24

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *